Pandavfall is a natural and very beautiful and delightful waterfall near Panna Tiger Reserve, adjacent to Khajuraho-Panna National Highway 75. The height of Pandavfall waterfall is about 30 meters. During the rainy season, it seems as if its beauty is enhanced. The beauty of Pandavafall is worth seeing.

Pandavfall and Panna Tiger reserve tourist palce (1)
Pandav Fall – A Beautiful Waterfall in Panna
Await Khajuraho's Timeless Treasures in 2024 and embark on a captivating adventure steeped in tradition and splendor
pandavfall and panna tiger reserve

पाण्डवफाॅल, पन्ना टाईगर रिजर्व के पास ही खजूराहो- पन्ना, राष्ट्रीय राजमार्ग 75 से लगा हुआ एक प्राकृतिक और बेहद ही खूबसूरत और रमणीय जल प्रपात है। पाण्डवफाॅल जल प्रपात की ऊंचाई लगभग 30 मीटर है। बारिश के मौसम में तो यूं लगता है जैसे इसकी खूबसूरती को चार चांद लग गए हों। पाण्डवफाॅल की खूबसूरती देखते ही बनती है।

जैव विविधता की दृष्टि से भी यह क्षेत्र अपना एक विशिष्ट स्थान रखता है। जल प्रपात के नीचे एक जलकुंड बना हुआ है जहां जाने के लिए 294 सीढ़ियां बनी हुई हैं। ऊपर से पानी इसी जलकुंड में गिरता है। इस जलकुंड को जब आप ऊपर से देखेंगे तो यह कुछ कुछ दिल का आकार लिए दिखता है। फोटोग्राफी में तो यह बिल्कुल ही स्पष्ट नजर आता है। बस यह जानते ही नौजवानों की टोली जुट जाती है अपने मिशन पर।

Pandavfall and Panna Tiger Reserve : How Adventurers Defy Rules to Reach Pandavfal

हालांकि सुरक्षा के दृष्टिकोण से ऊपर जाना मना है, पर कहां मानते हैं हम। नियमों को ना मानने में हमें थोड़ा सुकून मिलता है। एक प्रकार के आनंद की अनुभूति होती है। जुगाड़ तकनीक भिड़ाया और पहुंच गए वहां जहां जाना मना था।

यह जलकुंड छोटी छोटी मछलियों की नर्सरी भी है, जहां पर मछलियां बड़ी होकर बारिश की बाढ़ में, बारिश की पानी के साथ नीचे मौजूद केन नदी तक जाकर मछलियों के समुदाय की निरंतरता बनाए रखती है। केन नदी दरअसल पहले कर्णावती के नाम से जानी जाती थी। हमारे पुराने शासकों ने जिन्हें कर्णावती नाम के उच्चारण में समस्या आती थी, उन्होंने इसे केन कर दिया, ऐसा यहां के स्थानीय लोगों का कहना है।

सच ही रहा होगा। कहां उन्हें हिन्दी की ज्यादा समझ थी। आज भी कहीं ना कहीं वायसराय की टेरिटरी में रहते हैं। यकीन ना हो तो हवाई जहाज के डैनों को थोड़ा ध्यान से देख लें। चलता है भाई, सब चलता है। क्या फर्क पड़ता है।

Pandavfall and Panna Tiger Reserve : Discover the Hidden Gem Near Panna Tiger Reserve

खैर! सालों भर पानी की उपलब्धता की वजह से यह स्थान हरवक्त, हर मौसम में पक्षियों से भी गुंजायमान रहता है। गर्मी के मौसम में यहां का राजकीय पक्षी दूधराज यहां पाया जाता है। यहां के ऊंचे ऊंचे अर्जुन के पेड़ जिन्हें हम ज्यादा अच्छे से जानते हैं। शायद उम्र का असर है, पर रात्रिकाल में यहां भालुओं की चहल-पहल रहती हैं। पेड़ों पर भालूओं के पंजे के निशान इस बात की गवाही दे रहे थे। रही सही कसर पेड़ों के पास गिरे हुए मधुमक्खियों के छत्तों ने पूरी कर दी।

यहां से निकलने वाले पानी की पाचन शक्ति प्राकृतिक रूप से अधिक होने का भी स्थानीयों लोग दावा करते हैं है। स्वाभाविक है। पत्थरों और पहाड़ों से गिरता हुआ पानी खनिजों की उपलब्धता की वजह से स्वास्थ्य की दृष्टिकोण से अच्छा तो होगा ही।

इस क्षेत्र की धार्मिक मान्यता भी है। कहा जाता है कि वनवास काल में पाण्डव ने यहां निवास किया था। जलकुंड के एक ओर बनी हुई गुफाएं इस बात की ओर इशारा करती हैं। हालांकि अब गुफाओं में आगे जाने के लिए सुरक्षा की दृष्टिकोण से रास्ते को बंद कर दिया गया है, पर हमारे उत्साही गाइड ने तो हमें यहां तक बताया कि वो इस गुफा में काफी अंदर तक जा चुका है।

Pandavfall and Panna Tiger Reserve : Where Legends and Waterfalls Collide

यहां पर चूना पत्थर (limestone) का एक विशिष्ट आकार का स्टेलागमाइट / स्टेलाकटाइट (Stalagmite/Stalactite) भी उपलब्ध है। लोगों का कहना है कि 4 सितम्बर 1929 को इसी स्थान पर अमर शहीद राष्ट्रवादी चन्द्रशेखर आजाद ने क्रांतिकारियों के साथ एक गुप्त बैठक की थी । हो सकता है इस तरह की भौगोलिक स्थिति वाली जगह पुलिस से बचकर अपनी गतिविधियों को चलाने के लिए क्रांतिकारियों और राष्ट्रवादियों को काफी रास आती है।

पाण्डवफाॅल पर्यटकों के लिए बुधवार का दिन छोड़कर सालों भर खुला रहता है। तो आप जब भी आपका दिल चाहे एक बार वहां जाएं और प्रकृति के सौंदर्य का आनंद उठाएं।

✒ मनीश वर्मा’मनु’

 

FAQ of Pandavfall and Panna Tiger Reserve

Q. पन्ना बायोस्फीयर रिजर्व कब बनाया गया था ?

A. पन्ना राष्ट्रीय उद्यान 1981 में बनाया गया था। इसे 1994 में भारत सरकार द्वारा एक परियोजना टाइगर रिजर्व घोषित किया गया था। राष्ट्रीय उद्यान में 1975 में बनाए गए पूर्व गंगऊ वन्यजीव अभयारण्य के क्षेत्र शामिल हैं। इस अभयारण्य में वर्तमान उत्तर और दक्षिण के क्षेत्रीय वन शामिल हैं।

Q. पन्ना टाइगर रिजर्व के लिए कौन सा गेट सबसे अच्छा है?

A. प्रवेश दो द्वारों से होता है: मडला और हिनौता । मडला एनएच 39 (पन्ना-खजुराहो मुख्य सड़क) पर, केन नदी पर पुल के ठीक सामने स्थित है, और यह अधिक लोकप्रिय है क्योंकि यह हवाई अड्डे के करीब है और आवास पास में ही केंद्रित है।

Q. पन्ना बायोस्फीयर रिजर्व से कौन सी नदी बहती है?

A. यह मध्य प्रदेश के उत्तरी भाग में विंध्य पर्वत श्रृंखला में स्थित है। केन नदी (यमुना नदी की सबसे कम प्रदूषित सहायक नदियों में से एक) रिजर्व से होकर बहती है और केन-बेतवा नदी इंटरलिंकिंग परियोजना भी इसमें स्थित होगी। यह क्षेत्र पन्ना हीरा खनन के लिए भी प्रसिद्ध है।

Q. Which is Best Time to visit Pandavfall and Panna Tiger Reserve? 

The best time to visit the Reserve is 15 October to 15 June. TOURISM ZONE & CARRYING CAPACITY Panna Tiger Reserve has two Tourism Zone namely Madla & Hinauta.

ZoneMorning Carrying CapacityEvening Carrying CapacityTotal Capacity
Madla603595
Hinauta251540
Harsa201030
Total10560165